गुरुवार, 27 जुलाई 2017

माँ तुम बहुत याद आती हो


Source-Desi Painters


मेरा चेहरा हर वक्त अपनी आँखो में लेकर
मेरा किस्सा हर वक्त अपनी जुबान पर लेकर
मेरे बारे में ही हर किसी को बताती हो
माँ तुम बहुत याद आती हो
माँ तुम बहुत याद आती हो।

हर वक्त हाथो में लेकर मुझको प्यार किया
मेरी खुशियों पर तुमने जीवन अपना वार दिया
हर मुश्किल में समझाकर हौसला मेरा बढाती हो
माँ तुम बहुत याद आती हो।

जब स्कूल ना जाने की जिद मैं किया करता था
तब तुम्हारा दुलार पापा से बचाया करता था
बिन कहे हमेशा मेरी ख्वाहिशें जान जाती हो
माँ तुम बहुत याद आती हो।

इतनी उम्र जी चुका हूँ दुनिया जाने क्या समझती है
अपने मतलब के लिए यह जिंदगी छिन लेती है
इन्ही राहों की मुश्किलों में तुम नजर आती हो
माँ तुम बहुत याद आती हो।

ना कह सकता मैं किसी से ना ही किसे बतलाता हूँ
अपने हर जनम में माँ तेरा बेटा होना चाहता हूँ
भगवान् को भी याद करूँ तो तुम ही नजर आती हो
माँ तुम बहुत याद आती हो।

तेरा प्यार और कर्ज कोई चुका ना पाएगा
स्वयं ईश्वर भी तेरी ममता ना बयान कर पाएगा
शायद इसीलिए उसके रूप में तुम दुनिया में आती हो
माँ तुम बहुत याद आती हो।
माँ तुम बहुत याद आती हो।
                                           .....कमलेश.....




एक टिप्पणी भेजें

तुमने ( सियासतदार )

Source - Hindustan Times फिर मुस्कराहट को खामोश कर दिया तुमने, फिर एक दिये की लौ को बुझा दिया तुमने । अभी तो यह जहान् देख भी नही...